शिल्पग्राम में ‘ऋतु वसंत’ उत्सव का आगाज : रोंकिनी के सुरों और आरती के कथक ने बांधा समां

-शिल्पग्राम का माहौल हुआ शास्त्रीय संगीत से सराबोर



उदयपुर। शिल्पग्राम में वसंत की भीनी-भीनी बयार के बीच जब प्रसिद्ध शास्त्रीय और पार्श्व  गायिका रोंकिनी गुप्ता की रेशमी आवाज में विलंबित ख्याल की स्वरलहरियां फिजा में घुलीं तो जहां समूचा शिल्पग्राम क्लासिकल के सागर में गोते लगाने लगा, वहीं इसमें प्रयुक्त राग बागेश्वरी भी मानो रोंकिनी से सधे सुरों में निबद्ध होकर खुद को धन्य मान रही थी।


मौका था शुक्रवार को पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र की ओर से शिल्पग्राम में आयोजित हो रहे तीन दिवसीय  “ऋतु वसंत उत्सव” के पहले दिन की क्लासिकल प्रस्तुतियों का। केंद्र का यह शास्त्रीय संगीत व नृत्य को समर्पित प्रोग्राम साल 2016 से निरंतर नई ऊंचाइयां छू रहा है और इसमें देश के कई प्रसिद्ध कलाकार मेवाड़ के कलाप्रेमियों के रू-ब-रू हो चुके हैं।


बहरहाल, रोंकिनी गुप्ता ने विलंबित एकताल में बड़ा ख्याल की ‘नीके लागे तोरे नैन’ की बंदिश पेश की तो तमाम कला प्रेमी सुरों में जैसे खो से गए। इसके बाद मध्य लय की बंदिश ‘धीर कैसे धरूं सजनी…’ की पेशकश पर क्लासिकल के जानकारों का हृदय झंकृत कर दिया, तो द्रुत लय एकताल में ‘अचर ना धरो मुरारी…’ और राग हंसध्वनि में रूपक में ‘तराना’ की प्रस्तति से समां बांध दिया।

संगीतकार एआर रहमान की फेवरिट क्लासिकल सिंगर रोंकिनी ने ‘मोरी पैजनिया…’ की द्रुत बंदिश तीन ताल में पेश कर खूब तालियां बटोरी। ज्यों-ज्यों शाम ढलने लगी, राेंकिनी की लयकारी और सुरों की जादूगरी के साथ ही तबले की उम्दा संगत ने अपनी रोशनी बिखेर शिल्पग्राम प्रांगण को शुद्ध भारतीय संगीत से जगमग रखा। जब उन्होंने राग सोहनी में ‘डारूंगी-डारूंगी तोहपे रंग सांवरिया…’ और तीन ताल में ‘रंग ना डारो श्याम जी…’ पेश किया तो श्रोता वाह-वाह कर उठे। उनके साथ तबले पर दीपक मराठे और हारमोनियम पर आशीष रागवानी ने संगत की।

डॉ. आरती ने कथक के तीन काल किए जीवंत…फिर वसंत-

इस शास्त्रीय सांझ में कथक ने क्लासिकल के अनूठे रंग भर दिए जब प्रसिद्ध नृत्यांगना डॉ.आरती सिंह ने अपनी टीम के साथ कथक के बदलते और निरंतर निखरते रूप को पेश किया। उन्होंने भक्तिकाल, मुगलकाल और आधुनिक काल में कथक के विभिन्न रूपों की बहुत की बारीकी से प्रस्तुति दी। इसके बाद उन्होंने खूबसूरत लयकारी और ताल में बसंत ऋतु को बहुत ही उम्दा तरीके से उकेरा। उषा शर्मा, तेजस्विता नंदिनी शाह, राशि कौर, पारूल कुंभालकर, प्रेरणा देवांगन, चिरंजीवी हल्दर और नरेंद्र छत्री ने उनका साथ दिया।
————
 आज के आकर्षण-

वायलिन-संतूर की जुगलबंदी और शास्त्रीय गायन
पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र के निदेशक फुरकान खान ने बताया कि ‘ऋतु वसंत’ उत्सव में शनिवार को दूसरे दिन पं.राजकुमार मजूमदार, उस्ताद असगर हुसैन और उस्ताद अख्तर हसन की वायलिन और संतूर की खूबसूरत जुगलबंदी और जयपुर के शास्त्रीय गायक सौरभ वशिष्ठ की गायकी रहेगी।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *