The doctors politics : मर्ज  कुछ और था, CMHO व डॉक्टर एक दूसरे की सर्जरी करने पर उतारू हो गए

उदयपुर। उदयपुर के सीएमएचओ डॉ. शंकर बामनिया व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) डॉ. मुकेश अटल के बीच विवाद हो गया। दरअसल दोनों के बीच स्थानांतरण को लेकर पहले से खींचतान चल रही थी, लेकिन निरीक्षण करने गए सीएमएचओ व डॉक्टर के बीच झगड़ा हो गया। मरीजों का इलाज करने की बजाय दोनों एक दूसरे की सर्जरी करने पर उतारू हो गए। दोनों के बीच विवाद का वीडियो भी वायरल हो गया।


मामला उदयपुर के कुराबड़ स्थित सीएचसी का है। जहां सोमवार सुबह साढ़े 9 बजे सीएमएचओ डॉ. शंकर बामनिया निरीक्षण के लिए पहुंचे थे। इस दौरान उनमें हुए वाकयुद्ध का तेजी से वायरल हो रहे वीडियो में वह एक—दूसरे पर खींचकर रखने की बात कहते हुए धमका रहे हैं।


डॉक्टर मुकेश का आरोप, सीएमएचओ उन्हें और उनकी पत्नी को कर रहे तंग


वायरल हो रहा वीडियो सीएचसी पर पदस्थ डॉ. मुकेश ने बनाया। उनका कहना है कि सीएमएचओ मुझे और गिर्वा ब्लॉक पर नियुक्त उनकी पत्नी डॉ. निधि यादव को परेशान कर रहे हैं। उनका कहना है कि उनकी पत्नी गिर्वा बीसीएमओ थी। जिनका तबादला वहां से जोधपुर करा दिया गया। जबकि एसीबी में ट्रेप डॉ. पृथ्वीराज जीनगर को बीसीएमओ का चार्ज दे दिया। उनके वापस आर्डर लाए जाने के बाद भी जिम्मा सौंपना तो दूर की बात, पिछले नौ महीने का वेतन जारी नहीं किया जा रहा। मनमर्जी कर वह उनकी पत्नी तथा उन्हें जबरन परेशान कर रहे हैं। परेशान करने की नीयत से वह अस्पताल आए और उन्हें तब सीट से उठा दिया, जब वह मरीज का उपचार कर रहे थे।
सीएमएचओ बोले—मुझसे की थी बदतमीजी


इधर, सीएमएचओ डॉ.शंकर बामनिया का कहना है कि जब वह अस्पताल के निरीक्षण के लिए पहुंचे तब डॉ. मुकेश ने उनसे बदतमीजी की। यहां तक उन्हें कुर्सी तक नहीं दी। उन्होंने उच्चाधिकारियों से डॉ. मुकेश की शिकायत कीबात कही और कहा कि जांच में अस्पताल की स्थित बदतर पाई गई। मरीजों का ना तो बीपी जांच जा रहा था और ना ही शुगर। उन्होंने माना कि डॉ. मुकेश के अभद्रता करने पर गुस्से में उनके मुंह से चार रखने की बात निकल गई थी।


बामनिया से विवाद की यह दूसरी घटना


इससे पहले डॉ.बामनिया से विवाद की एक और घटना हो चुकी है। पिछले दिनों उनका विवाद फलासिया के बीडीओ अशोक डिंडोर के साथ हुआ था। जिन्होंने डॉ. बामनिया के बेटे डॉ. विकास के मादड़ी—फलासिया स्थित सीएचसी से गैरहाजिर रहने पर उपस्थिति पंजिका में प्रश्न चिन्ह लगा दिया था। जिसको लेकर सीएमएचओ डॉ. बामनिया का कहना था कि अशोक डिंडोर को सीएचसी का निरीक्षण करने का अधिकार नहीं। जिस पर जिला परिषद के एसीईओ ने अशोक डिंडोर को नोटिस जारी किया था और उसे वायरल करते हुए सीएमएचओ ने लिखा था कि ‘शराबी बीडीओ को मिला कारण बताओ नोटिस’। इसके बाद डिंडोर ने सीएमएचओ के खिलाफ मानहानि का केस करने की बात कही थी।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *