उदयपुर में अनूठा प्रयास : ग्राम भूजल सहकारिता समिति बना किसान कर रहे है जल साझेदारी व प्रबंधन

भूजल संचय, समीक्षा, साझेदारी व स्थायित्व से समरसता , संतुष्टि व समृद्धि पूरे विश्व के लिए अनुकरणीय

शुभारम्भ कार्यक्रम में जुड़े देश विदेश के प्रमुख वैज्ञानिक व ग्रामवासी

उदयपुर। ग्राम सहभागिता से भूजल सुप्रबंधन की विश्व प्रसिद्ध मारवी योजना के तहत एक नई पहल करते हुए ग्राम वासियों ने मिलकर भूजल सहकारिता समिति बना ली है। बुधवार को उदयपुर के हिंता गाँव में आयोजित कार्यक्रम में धारता वाटरशेड की ग्राम सहकारिता समिति का विधिवत शुभारंभ हुआ।

हर और यह आशंका व्यक्त की जाती रही है कि अगला विश्व युद्ध पानी के कारण होगा, लेकिन भारत के उदयपुर मे हो रहा यह प्रयोग इस आशंका को निर्मूल कर रहा हैं। भारत का ग्रामीण समाज वैज्ञानिक तरीके से भूजल का मापन, पुनर्भरण, प्रबंधन तो कर ही रहा है , वह पानी को परस्पर बांट भी रहा हैं । ग्राम भूजल सहकारिता समिति मे जाति, वर्ग , ऊंच नीच , महिला -पुरुष का कोई भेद नही। पानी सबका – सब पानी के। इस प्रयोग ने सामाजिक समरसता व सामूहिक व सहभागिता पूर्ण पानी प्रबंधन की भारतीय संस्कृति को पुनर्स्थापित कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि ग्राम भूजल समिति (वीजीसी) का राजस्थान सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1958 के तहत परशुराम भूजल सहकारिता समिति के रूप में पंजीकरण कराया गया है । इसमे बाइस हेक्टेयर भूमि क्षेत्र में स्थित तीस परिवार अपने तीन खुले कुओं और तीन बोरवेल के पानी को सिचाई, पेयजल इत्यादि के लिए साझा कर रहे है। सिंचाई पाइप इत्यादि वितरण प्रणाली व अन्य सम्बंधित साधनों को आईसीआईसीआई फाउंडेशन की वित्तीय मदद से स्थापित किया गया है । इस मदद से 13 रिचार्ज पिट्स के साथ लगभग ढाई किलोमीटर पाइपलाइन, डेढ़ किलोमीटर खेत मेडबंदी व नीलगाय इत्यादि वन्य जीवों से फसलों की रक्षा के लिए ढाई किलोमीटर बाड़ लगाई गई है ।

भूजल सहकारिता समिति के अध्यक्ष जगदीश भट्ट के सानिध्य में हुए शुभारम्भ कार्यक्रम को वेस्टर्न सिडनी विश्वविद्यालय , महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय , विद्या भवन तथा समस्त मारवी सहयोगी संस्थाओं द्वारा आयोजित किया गया ।इसमें देश विदेश के प्रमुख वैज्ञानिकों व ग्राम वासियों ने भाग लिया ।

योजना के प्रेरक वेस्टर्न सिडनी विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर व इसी गाँव के निवासी बसंत माहेश्वरी ने बताया कि भूजल सहकारिता समिति मॉडल किसानों को अपने भूजल की निगरानी करने, पुनर्भरण करने , बुनियादी ढांचा निर्माण करने और भूजल को समान और स्थायी रूप से साझा करने के लिए प्रशिक्षित कर उन्हें सशक्त बनाता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि उदयपुर में प्रारंभ हुआ यह प्रयास पूरे विश्व को राह दिखायेगा ।

मुख्य अतिथि महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अजीत कुमार कर्नाटक ने कहा कि मारवी परियोजना ने यह साबित कर दिया है कि किसानों को अपने जल संसाधनों का प्रभावी ढंग से प्रबंधन करने की क्षमता है ।

विशेष आमंत्रित अतिथि पूसा केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर पीएल गौतम ने जलवायु परिवर्तन और जल मांग की चुनौतियों के बीच स्थानीय जल सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा और बेहतर आजीविका सुनिश्चित करने की इस पहल जल की अद्वितीय बताया ।

वेस्टर्न सिडनी विश्वविद्यालय की डीन ऑफ साइंस प्रोफेसर ग्रेसिएला मेट्टर्निच ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के जल प्रबंधन के भागीदारी प्रयासों पर गर्व व्यक्त किया ।

सीटीएई के डीन प्रोफेसर पीके सिंह ने कहा कि भूजल को साझा करना और बनाए रखना वीजीसी सदस्यों का मुख्य उद्देश्य है। इससे उनकी आजीविका बढ़ी है ।

आईसीआईसीआई फाउंडेशन के अमर दीक्षित ने ख़ुशी जताई कि भूजल सहकारिता समिति के कार्य के तत्काल प्रभाव प्रभावित करने वाले हैं खरीफ सीजन में मक्का की बढ़िया फसल हुई और अब गेहूं की बंपर फसल होने की संभावना है।

विद्या भवन पोलिटेक्निक के प्राचार्य डॉ. अनिल मेहता ने कहा कि सहकारिता समिति के ध्येय चार भूजल एस(स) – संचय, समीक्षा, साझेदारी व स्थायित्व ने ग्राम समाज में समरसता , संतुष्टि व समृद्धि को स्थापित किया है ।

कार्यक्रम में नाबार्ड के डीजीएम सुकान्त साहू, विद्या भवन के वी के के हेड डॉ प्रफुल्ल भटनागर , सी एस आई आर ओ के फेलो डॉ राय कूकणा सहित अन्तर्रष्ट्रीय वैज्ञानिकों जॉन वार्ड , रोजर पेखम, धर्मा हेगड़े ने भी विचार रखे ।

संचालन हसमुख गहलोत , योगिता दशोरा व प्रह्लाद सोनी ने किया ।

ग्राम भूजल सहकारी समिति क्या है?

ग्राम भूजल सहकारी (वीजीसी) पड़ोसी किसानों के बीच एक सहयोगी प्रयास है जिसका उद्देश्य ग्रामीण स्तर पर साझा भूजल संसाधनों का कुशलतापूर्वक प्रबंधन करना है। इसमें किसानों स्वेच्छा से अपने भूजल संसाधनों को साझा करने के लिए साथ आये हैं । चर्चाओं और सामूहिक निर्णय लेने के माध्यम से, सहकारी समिति परिवार सदस्य मौसमी योजनाएं विकसित करते हैं और सिंचाई जल को प्रभावी ढंग से निर्धारित करने और आपूर्ति करने के लिए उचित जल बजट लागू करते हैं। वीजीसी मॉडल भूजल संसाधनों के स्थायी प्रबंधन के लिए समुदाय-संचालित पहलों के महत्व पर जोर देता है व किसानों के बीच सहयोग और समान वितरण की भावना को बढ़ावा देता है।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *