राज्य के विद्युत निगमों एवं केन्द्रीय उपक्रमों के मध्य एमओय, ऐतिहासिक समझौतों से राजस्थान बनेगा सरप्लस स्टेट

-पीपीए, राजस्थान के ऊर्जा क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होंगे एमओयू

– मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा 1 बिलियन टन कोयला उत्पादन के ऐतिहासिक लक्ष्य को शीघ्र करेंगे प्राप्त

– केन्द्रीय कोयला मंत्री आज हुए एमओयू मुख्यमंत्री की दूरदर्शिता का परिचायक – केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री

– ऊर्जा क्षेत्र में होगा 1.60 लाख करोड़ का निवेश – 31 हजार 825 मेगावाट से अधिक की परियोजनाओं की होगी स्थापना

जयपुर। मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में प्रदेश की डबल इंजन सरकार द्वारा ऊर्जा क्षेत्र में किए जा रहे दूरदर्शी निर्णयों से राजस्थान शीघ्र ही विद्युत उत्पादन में सरप्लस श्रेणी में आ जाएगा और प्रदेश की ऊर्जा संबधी सभी आवश्यकताएं पूरी होंगी। उन्होंने कहा कि आज जिन समझौतों पर हस्ताक्षर हुए है उनको धरातल पर उतारने और समयबद्ध रूप से पूर्ण करने के लिए राज्य सरकार पूरी शक्ति एवं सामर्थ्य के साथ कार्य करेगी ताकि आपणो अग्रणी राजस्थान की संकल्पना साकार हो।

मुख्यमंत्री शर्मा रविवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में तापीय और अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं, प्रसारण तंत्र, विस्तार एवं सुदृढ़ीकरण तथा अन्य विकास कार्यों के लिए 1.60 लाख करोड़ के एमओयू एवं पीपीए हस्ताक्षर के अवसर पर आयोजित समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज राज्य में 31 हजार 825 मेगावाट से अधिक बिजली उत्पादन की विभिन्न परियोजनाओं सहित ऊर्जा क्षेत्र के विकास के लिए 1.60 लाख करोड़ रुपये के निवेश के लिए राज्य की 3 विद्युत निगमों एवं 6 केन्द्रीय उपक्रमों के उच्चाधिकारियों के मध्य 5 एमओयू तथा एक पावर परचेज एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए गए। साथ ही, राज्य में अवसंरचना क्षेत्र को सुदृढ़ करने के लिए विभिन्न विभागों, उपक्रमों तथा संस्थाओं के वित्त पोषण के लिए आरईसी लिमिटेड और राज्य सरकार के बीच भी 20 हजार करोड़ रूपए का एक एमओयू किया गया है।

ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनेगा राजस्थान—

शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार ने 3 माह के अल्प कार्यकाल में ही प्रदेश को विभिन्न क्षेत्रों में आत्मनिर्भर बनाने के लिए ऐतिहासिक कदम उठाए हैं। प्रदेश के जल संकट को दूर करने के लिए गत दिनों हुए कई ऐतिहासिक समझौतों के बाद अब ऊर्जा के क्षेत्र में भी राज्य को अग्रणी एवं आत्मनिर्भर बनाने का मार्ग प्रशस्त हुआ है। उन्होंने कहा कि सरकार का गठन होते ही गत दिनों केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री तथा केन्द्रीय कोयला मंत्री से सार्थक चर्चा कर कोयले की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित की गई है। राज्य सरकार के प्रयासों तथा केन्द्र सरकार के सहयोगात्मक रूख के कारण वर्तमान में राज्य को 23 कोल रेक प्रतिदिन मिल रहा है। साथ ही, आज राज्य के विद्युत गृहों की थर्मल पॉवर इकाइयों से औसत विद्युत उत्पादन में 1000 मेगावॉट की वृद्धि हो चुकी है।

पूर्ववर्ती सरकार के कुप्रबंधन के कारण चरमराया प्रदेश का बिजली तंत्र

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार के कुप्रबंधन के कारण प्रदेश का बिजली तंत्र चरमरा गया था और प्रदेश में बिजली संकट खड़ा हो गया था। हमारे थर्मल पॉवर स्टेशन कोयले की कमी से जूझ रहे थे। पिछली सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण पॉवर एक्सचेंज से महंगी दरों पर बिजली खरीदी गई, जिससे न केवल आर्थिक नुकसान हुआ बल्कि औद्योगिक विकास एवं कृषि उत्पादन भी प्रभावित हुआ। उन्होंने कहा कि राज्य के डिस्कॉम्स 88 हजार 700 करोड़ रुपए के ऋण के साथ दिवालिया होने की कगार पर पहुंच गए तथा राज्य की समस्त बिजली कम्पनियों पर कुल 1 लाख 39 हजार 200 करोड़ रुपए से अधिक का ऋण भार आ गया। श्री शर्मा ने कहा कि समय पर ऋण ना चुका पाने के कारण बिजली कम्पनियों पर 300 करोड़ रुपए की पेनल्टी भी लगाई गई, जबकि हमारी पूर्व सरकार ने उदय योजना के माध्यम से बिजली कम्पनियों के 62 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज अपने ऊपर लेकर उन्हें ऋणभार से मुक्ति दिलाई थी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार संसाधनों का सदुपयोग करते हुए राजस्थान को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही हैं।

एक बिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य करेंगे हासिल

कार्यक्रम को केंद्रीय कोयला एवं खान मंत्री श्री प्रल्हाद जोशी ने भी वर्चुअली संबोधित किया। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में देश में प्रचुर मात्रा में कोयला उत्पादन किया जा रहा है और हम शीघ्र ही एक बिलियन टन कोयला उत्पादन के ऐतिहासिक लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे। श्री जोशी ने बताया कि देश में पहली बार पोटाश खनन की शुरुआत राजस्थान से की जा रही है। राज्य के हनुमानगढ़ और बीकानेर स्थित दो खान ब्लॉक्स को नीलामी में शामिल करने की प्रक्रिया शुरू की जा चुकी है। श्री जोशी ने आश्वासन दिया कि भविष्य में भी राजस्थान को कोयला मंत्रालय से हरसंभव सहयोग मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नई सरकार का गठन होने के बाद उनकी मुख्यमंत्री जी से मुलाकात हुई थी। उस सार्थक चर्चा के बाद ही कोयला उपलब्धता से संबंधित समस्याओं को समाधान हो पाया है।

ऊर्जा क्षेत्र में देश छू रहा नई उंचाइयां

कार्यक्रम को वर्चुअली संबोधित करते हुए केंद्रीय ऊर्जा मंत्री श्री राजकुमार सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भजनलाल शर्मा की दूरदर्शी सोच की परिणीति से ही ये ऐतिहासिक समझौते संभव हो पाए हैं। इनसे राजस्थान ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर होगा तथा तेजी से विकास के पथ पर अग्रसर होगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में देश ऊर्जा क्षेत्र में नई ऊंचाइयां छू रहा है और भविष्य की ऊर्जा जरूरतों के लिए भी ऊर्जा मंत्रालय तत्पर होकर कार्य कर रहा है।

डबल इंजन की सरकार समर्पित होकर कर रही कार्य

उपमुख्यमंत्री श्रीमती दिया कुमारी ने कहा कि डबल इंजन की सरकार राजस्थान को ऊर्जा क्षेत्र में सक्षम एवं समृद्ध बनाने के लिए पूर्ण समर्पण के साथ कार्य कर रही है। आज रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉर्पोरेशन (आरईसी) लिमिटेड एवं राज्य सरकार के मध्य एमओयू हुआ है। इसके अन्तर्गत आरईसी लिमिटेड राज्य सरकार के विभिन्न विभागों, उपक्रमों, संस्थाओं और योजनाओं के लिए 20 हजार करोड़ रूपए का ऋण उपलब्ध करवाएगा। इससे प्रदेश के बिजली, पानी, सिंचाई, मेट्रो, परिवहन एवं कृषि से सम्बंधित परियोजनाओं में तेजी से वृद्धि होगी और राज्य आर्थिक दृष्टि से सम्पन्न प्रदेष बनने की ओर अग्रसर होगा।

परियोजनाओं का होगा समयबद्ध क्रियान्वयन

ऊर्जा मंत्री श्री हीरालाल नागर ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की विकसित भारत की परिकल्पना को साकार करने के लिए राजस्थान का ऊर्जा विभाग समर्पित भागीदारी निभाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश की बढ़ती मांग के अनुरूप विद्युत उत्पादन में वृद्धि के लिए इन परियोजनाओं को समयबद्ध रूप से क्रियान्वित करेगी। केन्द्रीय उपक्रमों को ऊर्जा विभाग की ओर से पूर्ण सहयोग प्रदान किया जाएगा। श्री नागर ने कहा कि इन परियोजनाओं से प्रदेश की ऊर्जा आवश्यकता पूर्ण होने के साथ ही निवेश और रोजगार सृजन के अवसरों में वृद्धि होगी।

इस अवसर पर केन्द्रीय कोयला सचिव श्री अमृतलाल मीना ने कहा कि केन्द्र सरकार अभूतपूर्व निर्णय लेते हुए देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि आज देश में प्रचुर मात्रा में कोयला उपलब्ध है। इस वर्ष कोयला उत्पादन में 11 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। मुख्य सचिव श्री सुधांश पंत ने कहा राज्य सरकार ऊर्जा क्षेत्र से सम्बंधित योजनाओं का शीघ्र क्रियान्वयन सुनिश्चित कर रही है। राज्य में पीएम सूर्यघर योजना के अन्तर्गत 1 लाख से अधिक का पोर्टल पर पंजीकरण हो चुका है।

ये हुए एमओयू एवं पीपीए:-

. संयुक्त उपक्रम द्वारा छबड़ा थर्मल प्लांट पर 1600 मेगावाट अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल कोयला आधारित विद्युत परियोजना स्थापित करने के लिए राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम (आरवीयूएन) तथा एनटीपीसी के मध्य समझौता। हस्ताक्षर- श्री देवेन्द्र श्रृंगी (सीएमडी आरवीयूएन) और श्री आर सारंगापाणि (कार्यकारी निदेशक एनटीपीसी)

. संयुक्त उपक्रम के तहत 25 हजार मेगावाट की अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं स्थापित करने के लिए आरवीयूएन एवं एनटीपीसी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड के बीच एमओयू। हस्ताक्षर- श्री देवेन्द्र श्रृंगी (सीएमडी, आरवीयूएन) तथा श्री राजीव गुप्ता (सीईओ, एनजीईएल)

. संयुक्त उपक्रम बनाकर 1600 मेगावाट कोयला आधारित एवं 2500 मेगावाट अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं स्थापित करने के लिए आरवीयूएन एवं कोल इंडिया लिमिटेड के मध्य समझौता। हस्ताक्षर- श्री देवेन्द्र श्रृंगी (सीएमडी, आरवीयूएन) तथा डॉ. अबानी के. सामन्त्रये (कार्यकारी निदेशक, सीआईएल)

. संयुक्त उपक्रम के तहत 125 मेगावाट लिग्नाइट आधारित परियोजनाएं एवं 1000 मेगावाट सौर परियोजना स्थापित करने के लिए आरवीयूएन तथा एनएलसी इंडिया लिमिटेड के मध्य एमओयू। हस्ताक्षर- श्री देवेन्द्र श्रृंगी (सीएमडी, आरवीयूएन) तथा श्री जे.सी. मजुमदार (कार्यकारी निदेशक, एनएलसी)

. संयुक्त उपक्रम बनाकर प्रदेश में बिजली प्रसारण तंत्र को सुदृढ़ करने के लिए आरवीपीएन एवं पावर ग्रिड के मध्य समझौता। हस्ताक्षर- श्री नथमल डिडेल (एमडी, आरवीपीएन) तथा श्री डी.एन. रोजेकर (कार्यकारी निदेशक, पावर ग्रिड)

. 600 मेगावाट सौर बिजली राज्य की वितरण कम्पनियों को देने के लिए आरयूवीआईटीएल एवं एसजेवीएन के मध्य पावर परचेज एग्रीमेंट। हस्ताक्षर- श्री डी.के. जैन (निदेशक वित्त, आरयूवीआईटीएल) तथा मनोज मित्तल (डीजीएम, एसजेवीएन)

. राजस्थान के विभिन्न विभागों, उपक्रमों, संस्थाओं तथा योजनाओं के लिए 20 हजार करोड़ रूपए के ऋण उपलब्ध कराने के लिए वित्त विभाग राजस्थान सरकार तथा आरईसी लिमिटेड के बीच एमओयू। हस्ताक्षर- श्री एन.के. ठकराल (शासन सचिव, वित्त विभाग) तथा श्री सौरभ रस्तोगी (कार्यकारी निदेशक, आरईसी)

इस अवसर पर वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री अखिल अरोड़ा, ऊर्जा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री आलोक, मुख्यमंत्री कार्यालय में अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री शिखर अग्रवाल सहित केन्द्र एवं राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित रहे।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *