इमली वाले बाबा का उर्स : चादर जुलूस निकला, पेश होगा संदल, जायरीनों ने की दुआएं

उदयपुर। ग़ुलाब बाग स्तिथ दरगाह हज़रत शाह सय्यद अब्दुल शकूर साबिर अली चिश्ती रहमतुल्लाह अलैह ( इमली वाले बाबा ) का सालाना 290 वा उर्स मुबारक में आज पेश होगा संदल। दरगाह कमेटी के प्रवक्ता मोहम्मद रफ़ीक शाह ” बहादुर” ने बताया कि सोमवार को बाद नमाज जोहर के करीब 3.30 बजे खांजीपीर के खड़क जी के चौक से आकिब हुसैन के नेतृत्व में चादर शरीफ का जुलूस रवाना होकर दरगाह शरीफ पहुचा और चादर शरीफ पेश कर दुआए मांगी गई।

इंशा की नमाज के बाद आस्ताने आलिया पर महफिले शमा का प्रोग्राम हुआ। जिसमें दरगाह के पगड़ीबन्ध कव्वाल नजीर आसिफ नियाजी और उनके हमनवा द्वारा सूफ़ियाना कलाम पेश किए “साबीर रुठ ना जाना ,वरना हम तो मर जायेंगे” तेरा नाम ख़्वाजा मोइनुद्दीन है”। और भी कई सूफ़ियाना कलाम पेश किए।

मंगलवार 12 /12/2023 को फ़ारुखे आज़म नगर और अंजुमन चौक से चादर शरीफ का जुलूस आएगा जो गुलाब बाग की शेर वाली फाटक से शुरू होकर दरगाह पर पहुँच कर चादर शरीफ पेश कर दुआ मांगी जाएगी। आज रात्रि को बाबा साहब के मजार पर ग़ुस्ल और संदल पेश किया जाएगा।

About Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *